You are currently viewing Madhurashtakam-Sweetest prayer of Lord Krishna

Madhurashtakam-Sweetest prayer of Lord Krishna

Madhurashtakam-Sweetest prayer of Lord Krishna | Madhurashtakam | Adharam Madhuram | | | |  Krishna Stuti | Krishna Ashtakam | Madhur Ashtakam | Madhurashtakam composed by Shri Vallabhacharya | Krishna Stotra | Importance of Madhurashtakam | Benefits of Madhurashtakam | भगवान कृष्ण को अत्यंत प्रिय है मधुराष्टकं | भगवन कृष्ण का अत्यंत प्यारा भजन | अधरं मधुरं वदनं मधुरं | मधुराष्टकं का महत्त्व | मधुराष्टकं पढ़ने के लाभ 

 

 

 

 

Madhurashtakam

 

 

Madhurashtakam is composed by great Krishna devotee Shri Vallabhacharya ji in 1478 A.D.

 

Through Madhurashtakam he has expressed his love for Krishna and praised every aspect of Krishna. This song shows how Shri Vallabhacharya loves every activity of Krishna. We can also express our love towards Krishna by singing this phrase in his praise. When we love someone then we love everything about him or her.

 

Madhurashtakam is a stotra that describes the sweetness of the great Lord Krishna whose influence is spread across the world. Madhurashtakam was originally written in Sanskrit and is easy to understand. The verse uses just one adjective  ‘Madhuram’, meaning sweet or beautiful etc., extensively to describe the beautiful aspects of Lord Krishna and his beautiful form. Lord Krishna is described to be the master of sweetness through this hymn.

 

It is evident from the Madhurashtakam that the devotee is fascinated to have a look at not only the beautiful divine sweet form [sarvang sundar rupam] of Lord Krishna but also the very existence of the Lord by way of His moves, plays, pastimes, etc.

 

Thus the devotee says : “The Lord of Mathura, Krishna is sweet, sweet and nothing but sweet!

 

Even ambrosia and nectar may satiate after some time, but concerning the sweetness of the Divine Lord, one cannot have enough of it. Krishna’s lips are very sweet, His beautiful face is sweet, His beautiful black eyes with sidelong glances are sweet, His enchanting smile is even sweeter, His love-sports are sweet and His three-fold bend form is very sweet. O Lord of sweetness! everything about You is completely sweet, You are sweetness personified.”

 

Krishna is the sweetest honey we could ever taste, the sweetest laddoo we could ever enjoy and the sweetest icing on the cake we’ve ever crave for. In short He is sweetness personified that we sometimes become selfish not to share Him with others. Sri Vallabhacharya thus describes in this unique stotra, the Sweetness of Lord Sri Krishna.”

 

Lord Krishna is considered a symbol of love. Krishna’s devotee Mahaprabhu Shrimad Vallabhacharya was always immersed in God’s love. It is said that Shrimad Vallabhacharya was the true form of Gopi love and was immersed in the divine essence of the Supreme Love of God i.e. pastimes of Nikunja. ” The Gopis’ minds are always engaged in relishing the sweetness of Krishna’s Body. He is the Ocean of beauty, and His beautiful Face, His beautiful Smile, and the lustre of His Body are always attractive to the Gopis’ mind.

 

In the Krishna Karnamrita these three things have been described as sweet, sweeter, and sweetest. When there are three kinds of contamination in the constitutional body, it is called convulsion. So, similarly, a perfect devotee of Krishna attains a stage of convulsion when he is so overwhelmed by seeing the beauty of Krishna’s Body, His Face, and the beauty of Krishna’s Smile. This ocean of transcendental convulsion before Krishna’s beauty sometimes continues without any treatment, just as with ordinary convulsions a physician does not allow one to drink water for relief.

 

Shrimad Vallabhacharya created such a hymn while immersed in Krishna’s love that whosoever recites this , love for Krishna starts to get developed in every pore of his body. The love for Supreme God was always generating from every hair of his body. God’s love, His name, His presence, could be felt from his divine gestures. Whoever used to live in his company , he got immersed in Krishna’s Love and turned into sincere Krishna devotee.

 

The vindication path directed by Mahaprabhu Shrimad Vallabhacharya is the path of love. Love and reverence are the necessary elements to serve the God. When the mind of devotee gets immersed in God’s love being fully devoted to God , then only devotional service gets attained and Lord gets happy being served with loving devotion. God also comes under control of his beloved devotees. He gets captivated with the devotion of his devotees filled with love and reverence.

The devotee increasingly feels the absence of Krishna, because without Him one cannot drink the nectar of His beauty. When there is the transcendental sound of Krishna’s flute , the devotee’s anxiety to hear that flute penetrates the covering of this material world and enters into the Spiritual Sky. The sound of Krishna’s flute always resides within the ear of the Gopis , and increases their ecstasy. At the time when it is heard no other sound can enter into the ear , and in their family activities they are not able to reply properly because all these beautiful sounds are vibrating.

 

By singing “Madhurashtakam” we can tell Krishna that how we mesmerize every thing related to Him.

 

Do sing this daily in order to please Krishna ,to welcome Him in your life, to express your love for Him.

 

Worshiping and pleasing Lord Krishna brings beauty, wealth and prosperity in life. 

 

 

 

 

 

Contents

‘मधुराष्टकम्’ – इस छोटी-सी स्तुति में मुरली मनोहर की अत्यंत मनमोहक छवि तो उभरती ही है, साथ ही उनके सर्वव्यापी और संसार के पालनकर्ता होने का भी भान होता है। भगवान श्रीकृष्ण को प्रेम का प्रतीक माना जाता है। यहां तक ​​कि अमृत पी कर भी कुछ समय बाद संतृप्त हुआ जा सकता है, लेकिनअगर दिव्य भगवान की मिठास के विषय में बात करे, यह किसी के पास पर्याप्त नहीं हो सकती है।

 

कृष्ण भक्त महाप्रभु श्रीमद्वल्लभाचार्य भगवत्प्रेममय थे। कहा जाता है श्रीमद्वल्लभाचार्य जी कि गोपी प्रेम के साकार स्वरूप ही थे और प्रतिक्षण प्रभु की परम प्रेममयी निकुन्जलीला के दिव्य रस में मग्न रहते थे। उनके रोमरोम से दिव्य भगवत्प्रेम उमड़ता रहता था। जो भी उनकी सन्निधि में रहता, वह श्रीकृष्णप्रेमयुक्त हो जाता। श्रीमद्वल्लभाचार्य जी ने भगवान श्रीकृष्ण के प्रेम में डूबकर प्रेममयी एक ऐसी स्तुति की रचना की जिसका पाठ करने वाले के रोमरोम में भी प्रेम का जागरण होने लगता है। महाप्रभु श्रीमद्वल्लभाचार्य के द्वारा उपदेशित पुष्टिमार्ग प्रेममार्ग है।

मधुराष्टकम 1478 ई। में महान कृष्ण भक्त श्री वल्लभाचार्य जी द्वारा रचित है।

 

मधुराष्टकम के माध्यम से उन्होंने कृष्ण के प्रति अपने प्रेम को व्यक्त किया और उनके हर पहलू की प्रशंसा की। यह सुन्दर पंक्तियाँ यह दर्शाती हैं कि कैसे श्रीमद वल्लभाचार्य जी कृष्ण की हर गतिविधि को पसंद करते हैं। किस प्रकार भक्त को अपने प्रभु की हर वस्तु , हर बात किस प्रकार अद्भुत , अनुपम , अद्वितीय और प्रिय लगता है । हम भी उनकी प्रशंसा में इस वाक्यांश को गाकर उनके प्रति अपने प्रेम की अभिव्यक्ति कर सकते हैं। जब हम किसी से प्रेम करते हैं तो हम उसकी हर विषय वस्तु से प्रेम करते हैं।

 

मधुराष्टकम एक स्तोत्र है जिसमें अद्वितीय भगवान कृष्ण की मधुरता का वर्णन किया गया है जिसका प्रभाव सम्पूर्ण संसार में विस्तृत है।मधुराष्टकम मूल रूप से संस्कृत में लिखा गया था और इसे समझना आसान है। भगवान कृष्ण के सुंदर पहलुओं और उनके सुंदर रूप का वर्णन करने के लिए कविता में केवल एक विशेषण “मधुरम” का प्रयोग हुआ है। जिसका अर्थ है – मिठास या सुंदरता। भगवान कृष्ण को इस भजन के माध्यम से श्री कृष्ण को मधुरता के स्वामी के रूप में बताया गया है।

 

मधुरष्टकम से स्पष्ट होता है कि भक्त ,भगवान कृष्ण के न केवल सर्वांग सुंदर , दिव्य , मधुर रूप पर मोहित है, बल्कि भगवान के अस्तित्व अर्थात उनकी चाल , उनकी लीलाओं आदि पर भी मुग्ध है।

 

इस प्रकार भक्त कहते हैं: “मथुरा के भगवान कृष्ण, मधुर हैं, मधुर हैं और मधुर के अलावा कुछ नहीं हैं !”

 

भगवत्स्वरूप की सेवा के लिये भक्ति में स्नेह और प्रेम अत्यंत आवश्यक है। जब भक्त का चित्त भगवत्प्रेममय होकर भगवत्प्रवण हो जाता है, तभी सेवा सधती है और प्रेमपूर्वक सेवा करने से सेव्यस्वामी अवश्य प्रसन्न होते हैं। भगवान भी अपने प्रेमी भक्तों के वश में हो जाते हैं। भक्त कृष्ण की अनुपस्थिति का अनुभव करता है, क्योंकि कृष्ण के बिना उनकी सुंदरता का अमृत कैसे पिया जा सकता है

 

जब कृष्ण की बांसुरी की पारलौकिक ध्वनि होती है, तो उस बांसुरी को सुनने के लिए भक्त की व्यग्रता इस भौतिक संसार के आवरण को भेदती है और आध्यात्मिक आकाश में प्रवेश करती है। कृष्ण की बाँसुरी की धुन हमेशा गोपियों के कान के भीतर रहती है और उनके परमानंद को बढ़ाती हैजिस समय गोपियों द्वारा बांसुरी की धुन सुनी जा रही होती है उस समय कोई अन्य ध्वनि उनके कान में प्रवेश नहीं कर सकती है और उनकी पारिवारिक गतिविधियों में वे ठीक से उत्तर देने में सक्षम नहीं होती हैं क्योंकि उस समय बांसुरी की सुंदर ध्वनि कंपन कर रही होती है।

 

गोपियों का मन हमेशा कृष्ण की मिठास को फिर से पाने में लगा रहता है। वह सुंदरता का सागर है और उनका सुंदर चेहरा, सुंदर मुस्कान, और शरीर की चमक हमेशा गोपियों के चित्त आकर्षित करती है।

 

कृष्ण कर्णामृत में इन तीन बातों को मधुर, मधुर और मधुर बताया गया है। जब शरीर में तीन प्रकार की विशुद्धियाँ होती हैं तो उस स्थिति को आक्षेप कहते हैं। तो इस तरह कृष्ण का एक परिपूर्ण भक्त, भावविभोरमयी अवस्था को प्राप्त होता हैजब वह कृष्ण के शरीर की सुंदरता, उनके चेहरे और कृष्ण की मुस्कान की सुंदरता को देखकर अभिभूत हो जाता है तो स्वयं को अपने प्रभु के अत्यंत निकट अनुभव करता है

 

भगवान कृष्ण की आराधना करने और उन्हें प्रसन्न करने से जीवन में सुंदरता, धन और समृद्धि आती है।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Be a part of this Spiritual family by visiting more spiritual articles on:

The Spiritual Talks

For more divine and soulful mantras, bhajan and hymns:

Subscribe on Youtube: The Spiritual Talks

For Spiritual quotes , Divine images and wallpapers  & Pinterest Stories:

Follow on Pinterest: The Spiritual Talks

For any query contact on:

E-mail id: thespiritualtalks01@gmail.com

 

 

 

 

 

 

spiritual talks

Welcome to the spiritual platform to find your true self, to recognize your soul purpose, to discover your life path, to acquire your inner wisdom, to obtain your mental tranquility.

Leave a Reply