You are currently viewing Naam Ramayan-नामरामायण-शुद्धब्रह्मपरात्पर राम्

Naam Ramayan-नामरामायण-शुद्धब्रह्मपरात्पर राम्

Naam Ramayan-नामरामायणशुद्धब्रह्मपरात्पर राम | भगवान राम के 108 नाम | नाम रामायण | संक्षिप्त रामायण | शुद्ध ब्रह्म परात्पर राम | Nama Ramayan | Naam Ramayan | Nama Ramayan in Hindi | Nama Ramayan with Hindi Meaning | Naam Ramayan Hindi Lyrics with meaning | नाम रामायण हिंदी लिरिक्स | 108 names of Lord Rama

 

 

naam ramayan

Naam Ramayan- भगवान राम के 108 नाम 

 

बालकाण्डम  

 

 

108 names of Ram

 

 

शुद्धब्रह्मपरात्पर राम ॥१॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो शुद्ध ब्राह्मण हैं और जो श्रेष्ठ हैं, वे श्रेष्ठ हैं।।1।।

 

कालात्मकपरमेश्वर राम ॥२॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो काल की प्रकृति (अर्थात सभी के भाग्य का स्वामी) और सर्वोच्च भगवान ( परमेश्वर ) हैं।।2।।

 

शेषतल्पसुखनिद्रित राम ॥३॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो सर्प शेष नाग (भगवान विष्णु के रूप में) के बिस्तर पर सोते हैं।।3।।

 

ब्रह्माद्यामरप्रार्थित राम ॥४॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिनसे ब्रह्मा जी तथा अन्य देवताओं द्वारा अनुरोध किया गया था (रावण को खत्म करने के लिए राजा दशरथ के पुत्र के रूप में अवतार लेने के लिए)।।4।।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

चण्डकिरणकुलमण्डन राम ॥५॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जिन्होंने सूर्य के वंश को सुशोभित किया।।5।।

 

श्रीमद्दशरथनन्दन राम ॥६॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो राजा दशरथ के प्रतापी पुत्र थे।।6।।

 

कौसल्यासुखवर्धन राम ॥७॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने कौशल्या को असीम आनंद दिया।।7।।

 

विश्वामित्रप्रियधन राम ॥८॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो ऋषि विश्वामित्र को किसी महान खजाने की तरह प्रिय थे।।8।।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

घोरताटकाघातक राम ॥९॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने  भयानक दानवी ताटका/ताड़का का वध किया था।।9।।

 

मारीचादिनिपातक राम ॥१०॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने  दानव मारीच और अन्य लोगों को मार गिराया।।10।।

 

कौशिकमखसंरक्षक राम ॥११॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो ऋषि विश्वामित्र के यज्ञ के रक्षक थे।।11।।

 

श्रीमदहल्योद्धारक राम ॥१२॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने आदरणीय अहल्या को उद्धार प्रदान किया।।12।।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

गौतममुनिसंपूजित राम ॥१३॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो ऋषि गौतम द्वारा बहुत सम्मानित थे।।13।।

 

सुरमुनिवरगणसंस्तुत राम ॥१४॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो देवों और श्रेष्ठ ऋषियों द्वारा प्रशंसित थे।।14।।

 

नाविकधावितमृदुपद राम ॥१५॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिनके कोमल पैरों को केवट ने धोया था।।15।।

 

मिथिलापुरजनमोहक राम ॥१६॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने मिथिला के लोगों को मंत्रमुग्ध किया।।16।।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

विदेहमानसरञ्जक राम ॥१७॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने राजा जनक का सम्मान बढ़ाया।।17।।

 

त्र्यंबककार्मुकभञ्जक राम ॥१८॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने तीन आंखों वाले (त्र्यंबक) शिवजी  के धनुष को तोड़ दिया है।।18।।

 

सीतार्पितवरमालिक राम ॥१९॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिसे देवी सीता ने स्वयंवर के दौरान माला भेंट की।।19।।

 

कृतवैवाहिककौतुक राम ॥२०॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने विवाह के दौरान उत्सव की व्यवस्था की।।20।।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

भार्गवदर्पविनाशक राम ॥२१॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो श्री परशुराम के गर्व के विनाशक थे।।21।।

 

श्रीमदयोध्यापालक राम ॥२२॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो अयोध्या के महान राजा थे।।22।।

 

Naam Ramayan- भगवान राम के 108 नाम 

 

॥अयोध्याकाण्डम्॥

 

sitaram

 

 

अगणितगुणगणभूषित राम ॥२३॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो असंख्य गुणों से सुशोभित थे।।23।।

 

अवनीतनयाकामित राम ॥२४॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो पृथ्वी की बेटी (देवी सीता) द्वारा वांछनीय ( इच्छित) थे।।24।।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

राकाचन्द्रसमानन राम ॥२५॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिनका चेहरा पूर्ण चंद्रमा की तरह है।।25।।

 

पितृवाक्याश्रितकानन राम ॥२६॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो अपने पिता के वचनों का पालन करते हुए वन में गये।।26।।

 

प्रियगुहविनिवेदितपद राम ॥२७॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिनके चरणों में गुह ने खुद को एक प्रिय सेवक के रूप में शरणागत किया।।27।।

 

तत्क्षालितनिजमृदुपद राम ॥२८॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिनके कोमल पैर (गुह द्वारा) धोए गए थे ।।28।।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

भरद्वाजमुखानन्दक राम ॥२९॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिनको देखते ही ऋषि भरद्वाज का चेहरा खुशी से चमक उठा।।29।।

 

चित्रकूटाद्रिनिकेतन राम ॥३०॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने चित्रकूट पर्वत को अपना निवास स्थान बनाया।।30।।

 

दशरथसन्ततचिन्तित राम ॥३१॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने वन में अपने निर्वासन के दौरान अपने पिता दशरथ के बारे में लगातार सोचा था।।31।।

 

कैकेयीतनयार्थित राम ॥३२॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिनसे भरत जी (कैकेयी के पुत्र) ने बार बार जोर देकर अपने राज्य में वापस लौट चलने का अनुरोध किया था।।32।।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

विरचितनिजपितृकर्मक राम् ॥३३॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने अपने पिता के अंतिम संस्कार किए।।33।।

 

भरतार्पितनिजपादुक राम् ॥३४॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने भरत को उनकी पादुका दी।।34।।

 

 

Naam Ramayan- भगवान राम के 108 नाम 

 

 

 

Naam Ramayan- भगवान राम के 108 नाम 

 

अरण्यकाण्डम् ॥ 

 

Naam Ramayan

 

 

दण्डकवनजनपावन राम ॥३५॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने राक्षसों का वध करके दंडकारण्य वन के पर्यावरण को शुद्ध किया।।35।।

 

दुष्टविराधविनाशन राम ॥३६॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने दुष्ट दानव विराध का नाश किया था।।36।।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

शरभङ्गसुतीक्ष्णार्चित राम ॥३७॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो शरभंग ऋषि और सुतीक्ष्ण ऋषि द्वारा पूजे गए थे।।37।।

 

अगस्त्यानुग्रहवर्धित राम ॥३८॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो अगस्त्य ऋषि के आशीर्वाद से पूर्ण थे।।38।।

 

गृध्राधिपसंसेवित राम ॥३९॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो गिद्धों के राजा (जटायु) द्वारा सेवित थे।।39।।

 

पञ्चवटीतटसुस्थित राम् ॥४०॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो पंचवटी में नदी के तट पर रहते थे।।40।।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

शूर्पणखार्तिविधायक राम ॥४१॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने  सूर्पनखा को उसके दुष्ट इरादों के लिए दर्द दिया।।41।।

 

खरदूषणमुखसूदक राम ॥४२॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने दुनिया से खर और भूषण जैसे दानवों का अस्तित्व संसार से नष्ट कर दिया।।42।।

 

सीताप्रियहरिणानुग राम ॥४३॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो देवी सीता द्वारा वांछनीय हिरण के पीछे गये।।43।।

 

मारीचार्तिकृदाशुग राम ॥४४॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने मारीच के गलत कामों के लिए उस पर अपने तीर से प्रहार करके दर्द पहुंचाया।।44।।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

विनष्टसीतान्वेषक राम ॥४५॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने खोई हुई सीता को ईमानदारी से खोजा।।45

 

गृध्राधिपगतिदायक राम॥४६॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने गिद्धों के राजा (जटायु) को मुक्ति दिलाई।

 

शबरीदत्तफलाशन राम् ॥४७॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने शबरी द्वारा भक्ति भाव से अर्पित किए हुए फल खाए।

 

कबन्धबाहुच्छेदक राम् ॥४८॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने दानव कबंध की दोनों भुजाएँ काट दी।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

Naam Ramayan- भगवान राम के 108 नाम 

 

किष्किन्धाकाण्डम्  

 

 

Lord Ram

 

 

हनुमत्सेवितनिजपद राम ॥४९॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिनके चरण कमलों की सेवा हनुमान जी द्वारा की गई।

 

नतसुग्रीवाभीष्टद राम ॥५०॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने  सुग्रीव की इच्छा को पूरा किया जो  उनके समक्ष आत्मसमर्पण में झुके।

 

गर्वितवालिसंहारक राम ॥५१॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने बंदरों के घमंडी राजा बाली का अंत कर दिया।

 

वानरदूतप्रेषक राम ॥५२॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने वानर को (रावण के पास) दूत बना कर भेजा।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

हितकरलक्ष्मणसंयुत राम ॥५३॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जो सदैव लक्ष्मण जी के साथ संयुक्त होकर रहे, जिन्होंने श्री राम की सदैव लगन से सेवा की।

 

Naam Ramayan- भगवान राम के 108 नाम 

 

सुन्दरकाण्डम्

 

कपिवरसन्ततसंस्मृत राम ॥५४॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जो वानरों में सर्वश्रेष्ठ हनुमान जी द्वारा हर पल याद किये जाते हैं।

 

तद्गतिविघ्नध्वंसक राम ॥५५॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने हनुमानजी के मार्ग में आने वाली बाधाओं को दूर किया।

 

सीताप्राणाधारक राम ॥५६॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो देवी सीता के जीवन का सहारा थे।

 

राम राम जय राजा राम

राम राम जय सीता राम

 

दुष्टदशाननदूषित राम ॥५७॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने दुष्ट दस सिर वाले रावण की निंदा की थी।

 

शिष्टहनूमद्भूषित राम ॥५८॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने स्तुतियों के साथ बुद्धिमान और प्रख्यात हनुमान जी सुशोभित किया।

 

सीतावेदितकाकावन राम ॥५९॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने हनुमान जी के द्वारा काकासुर की घटना जो वन में घटित हुई, को सुना जिसके विषय में देवी सीता जी ने हनुमान जी को बताया था ।

 

कृतचूडामणिदर्शन राम ॥६०॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिसने हनुमान जी द्वारा लाई गई देवी सीता की चूड़ामणि को देखा था।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

कपिवरवचनाश्वासित राम ॥६१॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिनको हनुमान जी (वानरों में सर्वश्रेष्ठ) के शब्दों से शांति की अनुभूति हुई ।

 

Naam Ramayan- भगवान राम के 108 नाम 

 

युध्दकाण्डम्

 

nama ramayan

 

 

रावणनिधनप्रस्थित राम ॥६२॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने  रावण का नाश करने के लिए प्रस्थान किया।

 

वानरसैन्यसमावृत राम ॥६३॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जो वानर सेना से घिरे रहते थे।

 

शोषितसरिदीशार्थित राम ॥६४॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने समुद्र देव से मार्ग देने का अनुरोध किया और उसके द्वारा मार्ग न दिए जाने पर बाद में उसे सुखाने की धमकी दी।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

विभीषणाभयदायक राम ॥६५॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने  शरण लेने पर विभीषण को निर्भयता का आश्वासन दिया।

 

पर्वतसेतुनिबन्धक राम ॥६६॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने समुद्र पर चट्टानों से पुल का निर्माण किया।

 

कुम्भकर्णशिरच्छेदक राम ॥६७॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिसने युद्ध में कुंभकर्ण के सिर को काट दिया।

 

राक्षससङ्घविमर्दक राम ॥६८॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने युद्ध में राक्षसों की सेना को कुचल दिया।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

अहिमहिरावणचारण राम ॥६९॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने अहिरावण (हनुमान जी के द्वारा) का वध किया, जो उनका अपहरण करके पाताल लोक ले गया था।

 

संहृतदशमुखरावण राम ॥७०॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने दस मुख वाले रावण का युद्ध में नाश किया।

 

विधिभवमुखसुरसंस्तुत राम ॥७१॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जो ब्रह्मा, शिव और अन्य देवों द्वारा प्रशंसित थे।

 

खस्थितदशरथवीक्षित राम ॥७२॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिनके दिव्य कर्म स्वर्ग से दशरथ द्वारा देखे गए थे।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

सीतादर्शनमोदित राम ॥७३॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जो युद्ध के बाद देवी सीता को देखकर प्रसन्न थे।

 

अभिषिक्तविभीषणनत राम ॥७४॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जो विभीषण द्वारा सम्मानित किये गये थे , जिनका (विभीषण का)  राम द्वारा राज्याभिषेक किया गया था।

 

पुष्पकयानारोहण राम् ॥७५॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जोअयोध्या लौटने के लिए पुष्पक विमान पर चढ़े।

 

भरद्वाजादिनिषेवण राम् ॥७६॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने ऋषि भारद्वाज और अन्य ऋषियों का दर्शन किया।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

भरतप्राणप्रियकर राम ॥७७॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जो अपने वनवास से वापस आकर भरत के जीवन में आनंद लाए।

 

साकेतपुरीभूषण राम ॥७८॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं,जिन्होंने लंका से लौटने के बाद अयोध्या नगरी को अलंकृत किया।

 

सकलस्वीयसमानत राम ॥७९॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने सभी लोगो को समान रूप से अपनों की तरह माना।

 

रत्नलसत्पीठास्थित राम ॥८०॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो रत्न जड़ित सिंहासन पर बैठे।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

पट्टाभिषेकालंकृत राम ॥८१॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्हें राज्याभिषेक के दौरान राजसी मुकुट से सजाया गया था।

 

पार्थिवकुलसम्मानित राम ॥८२॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने राज्याभिषेक के दौरान राजाओं की सभा को सम्मानित किया।

 

विभीषणार्पितरङ्गक राम ॥८३॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने राज्याभिषेक समारोह के दौरान विभीषण को श्री रंगनाथ की मूर्ति भेंट की।

 

कीशकुलानुग्रहकर राम् ॥८४॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्होंने सूर्य वंश पर अपनी कृपा बरसाई।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

सकलजीवसंरक्षक राम ॥८५॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो सभी जीवित जीवों के संरक्षक हैं।

 

समस्तलोकाधारक राम ॥८६॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जो सारे संसारो के आधार हैं (आश्रय देने वाले हैं) ।

 

Naam Ramayan- भगवान राम के 108 नाम 

 

उत्तरकाण्डम्  

 

 

ram darbar

 

 

आगतमुनिगणसंस्तुत राम ॥८७॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूं, जिन्हें सभी दर्शन देने आने वाले साधुओं द्वारा सराहा गया।

 

विश्रुतदशकण्ठोद्भव राम ॥८८॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जिन्होंने दस मुखी रावण की उत्पत्ति (की कहानी) सुनी।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

सीतालिङ्गननिर्वृत राम ॥८९॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जो देवी सीता के आलिंगन में खुश थे। 

 

नीतिसुरक्षितजनपद राम ॥९०॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जिन्होंने नैतिक उपदेशों(धर्म) के द्वारा अपने साम्राज्य की रक्षा की।

 

विपिनत्याजितजनकज राम ॥९१॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जिन्होंने वन में देवी सीता को त्याग दिया था।

 

कारितलवणासुरवध राम ॥९२॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ,जिनकी वजह से दैत्य लवणासुर का वध (भाई शत्रुघ्न के द्वारा) हुआ।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

स्वर्गतशम्बुकसंस्तुत राम ॥९३॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जिनकी स्तुति करके शंबुक स्वर्ग को प्राप्त हुआ।

 

स्वतनयकुशलवनन्दित राम ॥९४॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जिन्होंने अपने बच्चों लव और कुश को खुश किया।

 

अश्वमेधक्रतुदीक्षित राम ॥९५॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जिन्होंने अश्वमेध यज्ञ के लिए दीक्षा ग्रहण की।

 

कालावेदितसुरपद राम ॥९६॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जिनको काल ने उनकी दिव्य स्थिति का ग्यान कराया, जब उनका प्रस्थान का समय आ गया।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

आयोध्यकजनमुक्तिद राम ॥९७॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जिन्होंने अयोध्या के लोगों को मुक्ति प्रदान की।

 

विधिमुखविबुधानन्दक राम ॥९८॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जिनके कारण ब्रह्मा जी तथा अन्य देवताओं के चेहरे आनंद से चमकते हैं।

 

तेजोमयनिजरूपक राम ॥९९॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जिसने अपने प्रस्थान के समय स्वयं का ज्योतिर्मय दिव्य स्वरूप धारण किया।

 

संसृतिबन्धविमोचक राम ॥१००॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जो (संसार ) सांसारिक आसक्तियों के बंधन से मुक्त करता है।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

धर्मस्थापनतत्पर राम ॥१०१॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जो विश्व में धर्म की स्थापना करने के लिए उत्सुक है।

 

भक्तिपरायणमुक्तिद राम ॥१०२॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जो उसको मोक्ष प्रदान करते हैं जो पूरी तरह से उनके प्रति समर्पित है।

 

सर्वचराचरपालक राम ॥१०३॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ, जो सभी चर और अचर प्राणियों के संरक्षक हैं।

 

सर्वभवामयवारक राम ॥१०४॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ,जो अपने भक्तों से सांसारिक लगावों के सभी रोगों को रोकता है।

 

राम राम जय राजा राम 

राम राम जय सीता राम 

 

वैकुण्ठालयसंस्थित राम ॥१०५॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ,जिन्होंने अपने जाने के बाद खुद को वैकुंठ के निवास स्थान में स्थापित किया। 

 

नित्यानन्दपदस्थित राम ॥१०६॥

 

मैं श्री राम की शरण लेता हूँ,जो  इस लोक से अपने प्रस्थान के बाद अपनी  अनन्त आनंद की दिव्य स्थिति में  स्थापित हुए।

 

राम राम जय जय राजा राम्॥१०७॥

राम राम जय जय सीता राम ॥१०८॥

 

 

नाम रामायण सम्पूर्णम 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Be a part of this Spiritual family by visiting more spiritual articles on:

The Spiritual Talks

For more divine and soulful mantras, bhajan and hymns:

Subscribe on Youtube: The Spiritual Talks

For Spiritual quotes , Divine images and wallpapers  & Pinterest Stories:

Follow on Pinterest: The Spiritual Talks

For any query contact on:

E-mail id: thespiritualtalks01@gmail.com

 

 

 

 

 

spiritual talks

Welcome to the spiritual platform to find your true self, to recognize your soul purpose, to discover your life path, to acquire your inner wisdom, to obtain your mental tranquility.

Leave a Reply