You are currently viewing Sundarkand Ramcharitmanas with meaning

Sundarkand Ramcharitmanas with meaning

 

 

Previous    Menu    Next 

 

 

हनुमान द्वारा अशोक वाटिका विध्वंस, अक्षय कुमार वध और मेघनाद का हनुमानजी को नागपाश में

बाँधकर सभा में ले जाना

 

 

दोहा :

देखि बुद्धि बल निपुन कपि कहेउ जानकीं जाहु।
रघुपति चरन हृदयँ धरि तात मधुर फल खाहु॥17॥

 

हनुमानजी को बुद्धि और बल में निपुण देखकर जानकीजी ने कहा- जाओ।

हे तात! श्री रघुनाथजी के चरणों को हृदय में धारण करके मीठे फल खाओ॥17॥

 

चौपाई :

चलेउ नाइ सिरु पैठेउ बागा।

फल खाएसि तरु तोरैं लागा॥

रहे तहाँ बहु भट रखवारे।

कछु मारेसि कछु जाइ पुकारे॥1॥

 

वे सीताजी को सिर नवाकर चले और बाग में घुस गए। फल खाए और वृक्षों को तोड़ने लगे।

वहाँ बहुत से योद्धा रखवाले थे। उनमें से कुछ को मार डाला और कुछ ने जाकर रावण से पुकार की-॥1॥

 

नाथ एक आवा कपि भारी।

तेहिं असोक बाटिका उजारी॥

खाएसि फल अरु बिटप उपारे।

रच्छक मर्दि मर्दि महि डारे॥2॥

 

(और कहा-) हे नाथ! एक बड़ा भारी बंदर आया है। उसने अशोक वाटिका उजाड़ डाली।

फल खाए, वृक्षों को उखाड़ डाला और रखवालों को मसल-मसलकर जमीन पर डाल दिया॥2॥

 

सुनि रावन पठए भट नाना।

तिन्हहि देखि गर्जेउ हनुमाना॥

सब रजनीचर कपि संघारे।

गए पुकारत कछु अधमारे॥3॥

 

यह सुनकर रावण ने बहुत से योद्धा भेजे। उन्हें देखकर हनुमानजी ने गर्जना की।

हनुमानजी ने सब राक्षसों को मार डाला, कुछ जो अधमरे थे, चिल्लाते हुए गए॥3॥

 

पुनि पठयउ तेहिं अच्छकुमारा।

चला संग लै सुभट अपारा॥

आवत देखि बिटप गहि तर्जा।

ताहि निपाति महाधुनि गर्जा॥4॥

 

फिर रावण ने अक्षयकुमार को भेजा। वह असंख्य श्रेष्ठ योद्धाओं को साथ लेकर चला।

उसे आते देखकर हनुमानजी ने एक वृक्ष (हाथ में) लेकर ललकारा और उसे मारकर महाध्वनि (बड़े जोर) से गर्जना की॥4॥

 

दोहा : 

कछु मारेसि कछु मर्देसि कछु मिलएसि धरि धूरि।
कछु पुनि जाइ पुकारे प्रभु मर्कट बल भूरि॥18॥

 

 उन्होंने सेना में से कुछ को मार डाला और कुछ को मसल डाला और कुछ को पकड़-पकड़कर धूल में मिला दिया।

कुछ ने फिर जाकर पुकार की कि हे प्रभु! बंदर बहुत ही बलवान् है॥18॥

 

चौपाई :

सुनि सुत बध लंकेस रिसाना।

पठएसि मेघनाद बलवाना॥

मारसि जनि सुत बाँधेसु ताही।

देखिअ कपिहि कहाँ कर आही॥1॥

 

पुत्र का वध सुनकर रावण क्रोधित हो उठा और उसने (अपने जेठे पुत्र) बलवान् मेघनाद को भेजा।

(उससे कहा कि-) हे पुत्र! मारना नहीं उसे बाँध लाना। उस बंदर को देखा जाए कि कहाँ का है॥1॥

 

चला इंद्रजित अतुलित जोधा।

बंधु निधन सुनि उपजा क्रोधा॥

कपि देखा दारुन भट आवा।

कटकटाइ गर्जा अरु धावा॥2॥

 

इंद्र को जीतने वाला अतुलनीय योद्धा मेघनाद चला। भाई का मारा जाना सुन उसे क्रोध हो आया।

हनुमानजी ने देखा कि अबकी भयानक योद्धा आया है। तब वे कटकटाकर गर्जे और दौड़े॥3॥

 

अति बिसाल तरु एक उपारा।

बिरथ कीन्ह लंकेस कुमारा॥

रहे महाभट ताके संगा।

गहि गहि कपि मर्दई निज अंगा॥3॥

 

उन्होंने एक बहुत बड़ा वृक्ष उखाड़ लिया और उसके प्रहार से लंकेश्वर रावण के पुत्र मेघनाद को बिना रथ का कर दिया।

रथ को तोड़कर उसे नीचे पटक दिया। उसके साथ जो बड़े-बड़े योद्धा थे, उनको पकड़-पकड़ कर हनुमानजी अपने शरीर से मसलने

लगे॥3॥

 

तिन्हहि निपाति ताहि सन बाजा।

भिरे जुगल मानहुँ गजराजा॥

मुठिका मारि चढ़ा तरु जाई।

ताहि एक छन मुरुछा आई॥4॥

 

उन सबको मारकर फिर मेघनाद से लड़ने लगे। (लड़ते हुए वे ऐसे मालूम होते थे) मानो दो गजराज (श्रेष्ठ हाथी) भिड़ गए हों।

हनुमानजी उसे एक घूँसा मारकर वृक्ष पर जा चढ़े। उसको क्षणभर के लिए मूर्च्छा आ गई॥4॥

 

उठि बहोरि कीन्हिसि बहु माया।

जीति न जाइ प्रभंजन जाया॥5॥

 

फिर उठकर उसने बहुत माया रची, परंतु पवन के पुत्र उससे जीते नहीं जाते॥5॥

 

दोहा : 

ब्रह्म अस्त्र तेहि साँधा कपि मन कीन्ह बिचार।
जौं न ब्रह्मसर मानउँ महिमा मिटइ अपार॥19॥

 

अंत में उसने ब्रह्मास्त्र का संधान (प्रयोग) किया, तब हनुमानजी ने मन में विचार किया कि यदि ब्रह्मास्त्र को नहीं मानता हूँ तो उसकी

अपार महिमा मिट जाएगी॥19॥

 

चौपाई : 

ब्रह्मबान कपि कहुँ तेहिं मारा।

परतिहुँ बार कटकु संघारा॥

तेहिं देखा कपि मुरुछित भयऊ।

नागपास बाँधेसि लै गयऊ॥1॥

 

उसने हनुमानजी को ब्रह्मबाण मारा, (जिसके लगते ही वे वृक्ष से नीचे गिर पड़े), परंतु गिरते समय भी उन्होंने बहुत सी सेना मार डाली।

जब उसने देखा कि हनुमानजी मूर्छित हो गए हैं, तब वह उनको नागपाश से बाँधकर ले गया॥1॥

 

जासु नाम जपि सुनहु भवानी।

भव बंधन काटहिं नर ग्यानी॥

तासु दूत कि बंध तरु आवा।

प्रभु कारज लगि कपिहिं बँधावा॥2॥

 

(शिवजी कहते हैं-) हे भवानी सुनो, जिनका नाम जपकर ज्ञानी (विवेकी) मनुष्य संसार (जन्म-मरण) के बंधन को काट डालते हैं।

उनका दूत कहीं बंधन में आ सकता है? किंतु प्रभु के कार्य के लिए हनुमानजी ने स्वयं अपने को बँधा लिया॥2॥

 

कपि बंधन सुनि निसिचर धाए।

कौतुक लागि सभाँ सब आए॥

दसमुख सभा दीखि कपि जाई।

कहि न जाइ कछु अति प्रभुताई॥3॥

 

बंदर का बाँधा जाना सुनकर राक्षस दौड़े और कौतुक के लिए (तमाशा देखने के लिए) सब सभा में आए।

हनुमानजी ने जाकर रावण की सभा देखी। उसकी अत्यंत प्रभुता (ऐश्वर्य) कुछ कही नहीं जाती॥3॥

 

कर जोरें सुर दिसिप बिनीता।

भृकुटि बिलोकत सकल सभीता॥

देखि प्रताप न कपि मन संका।

जिमि अहिगन महुँ गरुड़ असंका॥4॥

 

देवता और दिक्पाल हाथ जोड़े बड़ी नम्रता के साथ भयभीत हुए सब रावण की भौं ताक रहे हैं।

(उसका रुख देख रहे हैं) उसका ऐसा प्रताप देखकर भी हनुमानजी के मन में जरा भी डर नहीं हुआ।

वे ऐसे निःशंख खड़े रहे, जैसे सर्पों के समूह में गरुड़ निःशंख निर्भय) रहते हैं॥4॥

Next page>>>

 

 

 

spiritual talks

Welcome to the spiritual platform to find your true self, to recognize your soul purpose, to discover your life path, to acquire your inner wisdom, to obtain your mental tranquility.

Leave a Reply