You are currently viewing Venu Geet Lyrics with Hindi Meaning

Venu Geet Lyrics with Hindi Meaning

Venu Geet Lyrics with Hindi Meaning/ Gopi Venu Geet

VENU GITAM ( BHAGAVATAM CANTO 10, CHAPTER 21)

 वेणुगीतं/ वेणु गीत हिंदी अर्थ सहित 

(SONG OF KRISHNA’S FLUTE)

गोपियों द्वारा गया गया वेणु गीत

(श्रीमद्भागवते दशमस्कंधे अध्यायः २१)

 

Subscribe on Youtube: The Spiritual Talks

Follow on Pinterest: The Spiritual Talks

 

 

venu geet

 

 

 

श्रीशुकदेव जी महाराज ने सुन्दर ग्रीष्म ऋतु का वर्णन किया हैं, इसके बाद वर्षा ऋतु का वर्णन किया हैं और फिर वर्षा ऋतु की दिव्यता का अति सुंदर वर्णन किया। वर्षा ऋतु के बाद शरद ऋतु का वर्णन शुकदेव जी महाराज ने किया हैं। और गोपियों ने सुंदर वेणु गीत गाया है। जिसके केवल ये ही भाव हैं कि अगर संसार में कोई देखने योग्य हैं तो वे केवल भगवान श्री कृष्ण हैं। अगर आँखे भगवान को छोड़कर और किसी को देखती हैं तो वो आँखे जल जानी चाहिए। गोपियाँ एक क्षण के लिए भी परमात्मा श्री कृष्ण से दूर नहीं होना चाहती। अपनी पलकों तक को झपकने नहीं देना चाहती। गोपियाँ कह रही हैं भगवान के अवतार लेने से चेतन और जड़ सभी उनके रूप रस का माधुर्य का पान कर रहे हैं। ये गऊ, ये वेणु (वंशी), ये नदियां, ये ग्वाल बाल और ये गिरिराज सभी बड़भागी हैं, जिन्हें भगवान का सानिध्य प्राप्त हो रहा हैं।

 

श्रीमद भागवत के अन्तर्गत आने वाले गोपियों के पंञ्ञ प्रेम गीत (वेणु गीत, युगल गीत, प्रणय गीत, गोपी गीत और भ्रमर गीत) इनमें से वेणु गीत का वर्णन इस प्रकार है-

 

 

श्रीशुक उवाच-

इथं शरत्स्वच्छजलंपद्माकरसुगन्धिना।

न्यविशद् वायुना वातंसगोगोपालकोऽच्युतः॥१॥

 

श्री शुकदेवजी कहते हैं – परीक्षित ! शरद ऋतू के कारण वह वन बड़ा सुन्दर हो रहा था । जल निर्मल था और जलाशयों में खिले हुए कमलों की सुगन्ध से सनकर वायु मन्द-मन्द चल रही थी । भगवान श्री कृष्ण ने गौवों और ग्वाल बालों के साथ उस वन में प्रवेश किया ।।1।।

 

कुसुमितवनराजिशुष्मिभृंग-

   द्विजकुलघुष्टसरःसरिन्महीध्रम्।

मधुपतिरवगाह्य चारयन्गाः

    सहपशुपालबलश्चुकूज वेणुम् ॥२॥

 

सुन्दर-सुन्दर पुष्पों से परिपूर्ण हरी-हरी वृक्ष-पंक्तियों में मतवाले भौरें स्थान-स्थान पर गुनगुना रहे थे, जिससे उस वन के सरोवर, नदियाँ और पर्वत सब के सब गूंजते रहते थे । मधुपति श्री कृष्ण ने बलरामजी और ग्वाल-बालों के साथ उसके भीतर घुस कर गौवों को चराते हुए अपनी बाँसुरी पर बड़ी मधुर तान छेड़ी ।।२।।

 

तद् व्रजस्त्रिय आश्रुत्य वेणुगीतं स्मरोदयम्।

काश्चित् परोक्षं कृष्णस्य स्वसखीभ्योऽन्ववर्णयन्॥३॥

 

श्री कृष्ण की वह बंशीध्वनि भगवान के प्रति प्रेमभाव को , उनके मिलन की आकाँक्षा को जगाने वाली थी । (उसे सुनकर गोपियों का हृदय प्रेम से परिपूर्ण हो गया) वे एकान्त में अपनी सखियों से उनके रूप, गुण और बंशीध्वनि के प्रभाव वर्णन करने लगीं ।।३।।

 

तद् वर्णयितुमारब्धाः स्मरन्त्यः कृष्णचेष्टितम्।

नाशकन् स्मरवेगेन विक्षिप्तमनसो नृप ॥४॥

 

व्रज की गोपियों ने बंशीध्वनि का माधुर्य आपस में वर्णन करना चाहा तो अवश्य परन्तु वंशी का स्मरण होते ही उन्हें श्रीकृष्ण की मधुर चेष्टाओं की, प्रेमपूर्ण चितवन, भौहों के इशारे और मधुर मुस्कान आदि की याद हो आयी । उनकी भगवान से मिलने की आकाँक्षा और भी बढ़ गयी । उनका मन हाथ से निकल गया । वे मन ही मन वहाँ पहुँच गयी, जहाँ श्रीकृष्ण थे । अब उनकी वाणी बोले कैसे ? वे उसके वर्णन में असमर्थ हो गईं ।।4।।

 

बर्हापीडं नटवरवपुः कर्णयो: कर्णिकारं

   बिभ्रद् वासः कनककपिशं वैजयन्तीं च मालाम्।

रन्ध्रान् वेणोरधरसुधया पूरयन् गोपवृन्दै-

   र्वृन्दारण्यं स्वपदरमणं प्राविशद गीत कीर्तिः ॥५॥

 

(वे मन ही मन देखने लगीं, कि) श्रीकृष्ण ग्वाल-बालों के साथ वृन्दावन में प्रवेश कर रहे हैं । उनके सिरपर मयूरपिच्छ है और कानों पर कनेर के पीले-पीले पुष्प, शरीर पर सुनहला पीताम्बर और गले में पाँच प्रकार के सुगन्धित पुष्पों की बनी बैजयन्ती माला है । रंगमंच पर अभिनय करते हुए श्रेष्ठ नट जैसा क्या ही सुन्दर वेश है । बाँसुरी के छिद्रों को वे अपने अधरामृत से भर रहे हैं । उनके पीछे-पीछे ग्वालबाल उनकी लोकपावन कीर्ति का गान कर रहे हैं । इस प्रकार वैकुण्ठ से भी श्रेष्ठ वह वृन्दावन धाम उनके उनके चरण चिन्हों से और भी रमणीय बन गया है ।।5।।

 

इति वेणुरवं राजन् सर्वभूतमनोहरम्।

श्रुत्वा व्रजस्त्रियः सर्वा वर्णयन्त्योऽभिरेभिरे ॥६॥

 

परीक्षित ! यह वंशीध्वनि जड़-चेतन समस्त भूतों का मन चुरा लेती है । गोपियों ने उसे सुना और सुनकर उसका वर्णन करने लगीं । वर्णन करते-करते वे तन्मय हो गयीं और श्रीकृष्ण को पाकर आलिंगन करने लगीं ।।6।।

 

 

venu geet lyrics

 

 

अक्षण्वतां फलमिदं न परं विदामः

   सख्यः पशूननुविवेशयतोर्वयस्यैः।

वक्त्रं व्रजेशसुतयोरनुवेणु जुष्टं

   यैर्वा निपीतमनुरक्तकटाक्षमोक्षम्॥७॥

 

गोपियाँ आपस में बातचीत करने लगी – अरी सखी ! हमने तो आँखवालों के जीवन की और उनकी आँखों की बस यही इतनी ही सफलता समझी है, और तो हमें कुछ मालूम ही नहीं है । वह कौन सा लाभ है ? वह यही है, कि जब श्यामसुन्दर श्रीकृष्ण और गौरसुन्दर बलराम ग्वालबालों के साथ गायों को हाँककर वन में ले जा रहे हों या लौटाकर ला रहे हों, उन्होंने अपने अधरों पर मुरली धर रखी हो और प्रेमभरी तिरछी चितवन से हमारी ओर देख रहे हों, उस समय हम उनकी मुख माधुरी का पान करती रहें ।।7।।

 

चूतप्रवालबर्हस्तबकोत्पलाब्ज

  मालानुपृक्तपरिधानविचित्र वेषौ ।

मध्ये विरेजतुरलं पशुपालगोष्ठ्यां

 रंगे यथा नटवरौ क्वच गायमानौ॥८॥

 

अरी सखी ! जब वे आम की नयी कोपलें, मोरों के पंख, फूलों के गुच्छे, रंग- बिरंगे कमल और कुमुद की मालाएँ धारण कर लेते हैं, श्रीकृष्ण के साँवरे शरीर पर पीताम्बर और बलराम के गोरे शरीर पर नीलाम्बर फहराने लगता है, तब उनका वेष बड़ा ही विचित्र बन जाता है । ग्वालबालों की गोष्ठी में वो दोनों बीचोबीच बैठ जाते हैं और मधुर संगीत की तान छेड़ देते हैं । मेरी प्यारी सखी ! उस समय ऐसा जान पड़ता है मानों दो चतुर नट रंगमंच पर अभिनय कर रहे हों । मैं क्या बताऊँ कि उस समय उनकी कितनी शोभा होती है ।।8।।

 

गोप्यः किमाचरदयं कुशलं स्म वेणु-

  र्दामोदराधरसुधामपि गोपिकानाम्।

भुङ्क्ते स्वयं यदवशिष्टरसं ह्रदिन्यो

  हृष्यत्त्वचोऽश्रु मुमुचुस्तरवो यथार्याः॥९॥

 

अरी गोपियों ! यह वेणु पुरुष जाति का होनेपर भी पूर्वजन्म में न जाने ऐसा कौन सा साधन-भजन कर चुका है, कि हम गोपियों की अपनी संपत्ति दामोदर के अधरों की सुधा स्वयं ही इस प्रकार पिये जा रहा है कि हमलोगों के लिए थोडा सा भी रस शेष नहीं रह जायेगा । इस वेणु को अपने रस से सींचने वाली हृदिनियाँ आज कमलों के मिस रोमाँचित हो रही हैं और अपने वंश में भगवत्प्रेमी संतानों को देखकर श्रेष्ठ पुरुषों के समान वृक्ष भी इसके साथ अपना सम्बन्ध जोड़ कर आँखों से आनन्दाश्रु बहा रहे हैं ।।9।।

 

वृन्दावनं सखि भुवो वितनोति कीर्तिं

   यद्देवकीसुतपदाम्बुजलब्धलक्ष्मि।

गोविन्दवेणुमनु मत्तमयूरनृत्यं

    प्रेक्ष्याद्रिसान्वपरतान्यसमस्तसत्त्वम्॥१०॥

 

अरी सखी ! यह वृन्दावन वैकुण्ठलोक तक पृथ्वी की कीर्ति का विस्तार कर रहा है । क्योंकि यशोदानन्दन श्रीकृष्ण के चरण कमलों के चिन्हों से यह चिन्हित हो रहा है । सखी ! जब श्रीकृष्ण अपनी मुनिजन मोहिनी मुरली बजाते हैं, तब मोर मतवाले होकर उसकी ताल पर नाचने लगते हैं । यह देखकर पर्वत की चोटियों पर विचरण करने वाले सभी पशु पक्षी चुपचाप शान्त होकर खड़े रह जाते हैं । 

 

धन्याः स्म मूढमतयोऽपि हरिण्य एता

   या नन्दनन्दनमुपात्तविचित्र वेषम्।

आकर्ण्य वेणुरणितं सहकृष्णसाराः

   पूजां दधुर्विरचितां प्रणयावलोकैः ॥११॥

 

अरी सखी ! जब प्राणवल्लभ श्रीकृष्ण विचित्रवेश धारण करके बाँसुरी बजाते हैं, तब मूढ़ बुद्धिवाली ये हरिनियाँ भी वंशी की तान सुनकर अपने पति कृष्णसार मृगों के साथ नन्दनन्दन के पास चली आती हैं और अपनी प्रेमभरी बड़ी-बड़ी आँखों से उन्हें निरखने लगती हैं । निरखती क्या हैं, अपनी कमल के समान बड़ी-बड़ी आँखें श्रीकृष्ण के चरणों पर निछावर कर देती हैं और श्रीकृष्ण की प्रेमभरी चितवन के द्वारा किया हुआ अपना सत्कार स्वीकार करती हैं । वास्तव में उनका जीवन धन्य है । (हम वृन्दावन की गोपी होनेपर भी इस प्रकार अपने-आप को निछावर नहीं कर पातीं, हमारे घरवाले कुढ़ने लगते हैं, कितनी विड़म्बना हैl ।।10-11।।

 

कृष्णं निरीक्ष्य वनितोत्सवरूपशीलं

  श्रुत्वा च तत्क्वणितवेणुविचित्र गीतम्।

देव्यो विमानगतयः स्मरनुन्नसारा

   भ्रश्यत्प्रसूनकबरा मुमुहुर्विनीव्यः॥१२॥

 

अरी सखी! हरिनियों की तो बात ही क्या हैं- स्वर्ग की देवियाँ जब युवतियों को आनंदित करने वाले सौंदर्य और शील के खजाने श्रीकृष्ण को देखती हैं, तब उनके चित्र-विचित्र आलाप सुनकर वे अपने विमान पर ही सुध-बुध खो बैठती हैं— मूर्छित हो जाती हैं। यह कैसे मालूम हुआ सखी? सुनो तो, जब उनके ह्रदय में श्रीकृष्ण से मिलने की तीव्र आकांक्षा जग जाती है तब वे अपना धीरज खो बैठती हैं, बेहोश हो जाती हैं। उन्हें इस बात का भी पता नहीं चलता कि उनकी चोटियों में गुँथे हुए फूल पृथ्वी पर गिर रहे हैं। यहाँ तक कि उन्हें अपनी साड़ी का भी पता नहीं रहता।।12।।

 

गावश्च कृष्णमुखनिर्गतवेणुगीत-

  पीयूषमुत्तभितकर्णपुटैः पिबन्त्यः।

शावाः स्नुतस्तनपयःकवलाः स्म तस्थु-

   र्गोविन्दमात्मनि दृशाश्रुकलाः स्पृशन्त्यः ॥१३॥

 

अरी सखी! तुम देवियों की बात क्या कह रही हो, इन गौओं को नहीं देखती ? जब हमारे कृष्ण-प्यारे अपने मुख से बाँसुरी में स्वर भरते हैं और गौएँ उनका मधुर संगीत सुनती हैं, तब ये अपने दोनों कानों के दोने सम्हाल लेती हैं—खड़े कर लेती हैं और मानो उनसे अमृत पी रही हों, इस प्रकार उस संगीत का रस लेने लगती हैं ? ऐसा क्यों होता है सखी ? अपने नेत्रों के द्वार से श्यामसुन्दर को ह्रदय में ले जाकर वे उन्हें वहीं विराजमान कर देती हैं और मन-ही-मन उनका आलिंगन करती हैं। देखती नहीं हो, उनके नेत्रों से आनन्द के आँसू छलकने लगते हैं! और उनके बछड़े, बछड़ों की तो दशा ही निराली हो जाती है। यद्यपि गायों के थनों से अपने-आप दूध झरता रहता है, वे जब दूध पीते-पीते अचानक ही वंशीध्वनि सुनते हैं तब मुँह में लिया हुआ दूध का घूँट न उगले पाते हैं और न निगल पाए हैं। उनके ह्रदय में भी होता है भगवान का संस्पर्श और नेत्रों में छलकते होते हैं आनन्द के आँसू। वे ज्यों-के-त्यों ठिठके रह जाते हैं ।।।13।।

 

प्रायो बताम्ब विहगामुनयो वनेऽस्मिन्

   कृष्णेक्षितं तदुदितं कलवेणुगीतम्।

आरुह्य ये द्रुमभुजान् रुचिरप्रवालान्

   शृण्वन्त्य मीलितदृशो विगतान्यवाचः॥१४॥

 

अरी सखी! गौएँ और बछड़े तो हमारी घर की वस्तु हैं। उनकी बात तो जाने ही दो। वृन्दावन के पक्षियों को तुम नहीं देखती हो! उन्हें पक्षी कहना ही भूल है! सच पूछो तो उनमें से अधिकांश बड़े-बड़े ऋषि-मुनि हैं। वे वृन्दावन के सुन्दर-सुन्दर वृक्षों की नयी और मनोहर कोंपलों वाली डालियों पर चुपचाप बैठ जाते हैं और आँखें बंद नहीं करते, निर्निमेष नयनों से श्रीकृष्ण की रूप-माधुरी तथा प्यार-भरी चितवन देख-देखकर निहाल होते रहते हैं, तथा कानों से अन्य सब प्रकार के शब्दों को छोड़कर केवल उन्हीं की मोहनी वाणी और वंशी का त्रिभुवन मोहन संगीत सुनते रहते हैं। मेरी प्यारी सखी! उनका जीवन कितना धन्य है!।।14।।

 

नद्यस्तदा तदुपधार्य मुकुन्दगीतम्

   आवर्तलक्षितमनोभवभग्नवेगाः।

आलिंगनस्थगितमूर्मिभुजैर्मुरारे-

   र्गृह्णन्ति पादयुगलं कमलोपहाराः ॥१५॥

 

अरी सखी! देवता, गौओं और पक्षियों की बात क्यों करती हो ? वे तो चेतन हैं। इन जड़ नदियों को नहीं देखतीं ? इनमें जो भँवर दीख रहे हैं , उनसे इनके ह्रदय में श्यामसुन्दर से मिलने की तीव्र आकांक्षा का पता चलता है ? उसके वेग से ही तो इनका प्रवाह रुक गया है। इन्होंने भी प्रेमस्वरूप श्रीकृष्ण की वंशीध्वनि सुन ली है। देखो, देखो! ये अपनी तरंगों के हाथों से उनके चरण पकड़कर कमल के फूलों का उपहार चढ़ा रही हैं, और उनका आलिंगन कर रही हैं; मानो उसके चरणों पर अपना ह्रदय ही निछावर कर रही हैं ।।15।।

 

दृष्ट्वातपे व्रजपशून् सह रामगोपैः

   सञ्चारयन्तमनु वेणुमुदीरयन्तम्।

प्रेमप्रवृद्ध उदितः कुसुमावलीभिः

   सख्युर्व्यधात्स्ववपुषाम्बुद आतपत्रम्॥१६॥

 

अरी सखी! ये नदियाँ तो हमारी पृथ्वी की, हमारे वृन्दावन की वस्तुएँ हैं; तनिक इन बादलों को भी देखो! जब वे देखते हैं कि व्रजराजकुमार श्रीकृष्ण और बलरामजी ग्वालबालों के साथ धूप में गौएँ चरा रहे हैं और साथ-साथ बाँसुरी भी बजाते जा रहे हैं, तब उनके ह्रदय में प्रेम उमड़ आता है। वे उनके ऊपर मँडराने लगते हैं और वे श्यामघन अपने सखा घनश्याम के ऊपर अपने शरीर को ही छाता बनाकर तान देते हैं। इतना ही नहीं सखी! वे जब उनपर नन्हीं-नन्हीं फुहियों की वर्षा करने लगते हैं तब ऐसा जान पड़ता है कि वे उनके ऊपर सुन्दर-सुन्दर श्वेत कुसुम चढ़ा रहे हैं। नहीं सखी, उनके बहाने वे तो अपना जीवन ही निछावर कर देते हैं!।।16।।

 

पूर्णाः पुलिन्द्य उरुगायपदाब्जराग-

   श्रीकुंकुमेन दयितास्तनमण्डितेन।

तद्दर्शनस्मररुजस्तृणरूषितेन

   लिम्पन्त्य आननकुचेषु जहुस्तदाधिम् ॥१७॥

 

अरी भटू! हम तो वृन्दावन की इन भीलनियों को ही धन्य और कृतकृत्य मानती हैं। ऐसा क्यों सखी ? इसलिये कि इनके ह्रदय में बड़ा प्रेम है। जब ये हमारे कृष्ण-प्यारे को देखती हैं, तब इनके ह्रदय में भी उनसे मिलने की तीव्र आकांक्षा जाग उठती है। इनके ह्रदय में भी प्रेम की व्याधि लग जाती है। उस समय ये क्या उपाय करती हैं, यह भी सुन लो। हमारे प्रियतम की प्रेयसी गोपियाँ अपने वक्षःस्थलों पर जो केसर लगाती हैं, वह श्यामसुन्दर के चरणों में लगी होती है और वे जब वृन्दावन के घास-पात पर चलते हैं, तब उनमें भी लग जाती है। ये सौभाग्यवती भीलनियाँ उन्हें उन तिनकों पर से छुड़ाकर अपने वक्ष स्थल और मुखों पर मल लेतीं हैं और इस प्रकार अपने ह्रदय की प्रेम-पीड़ा शान्त करती हैं ।।।17।।

 

हन्तायमद्रिरबला हरिदासवर्यो

  यद् रामकृष्णचरणस्पर्शप्रमोदः।

मानं तनोति सहगोगणयोस्तयोर्यत्

   पानीयसूयवसकन्दरकन्दमूलैः ॥१८॥

 

अरी गोपियों! यह गिरिराज गोवर्धन तो भगवान के भक्तों में बहुत ही श्रेष्ठ है। धन्य हैं इसके भाग्य! देखती नहीं हो, हमारे प्राणवल्लभ श्रीकृष्ण और नयनाभिराम बलराम के चरणकमलों का स्पर्श प्राप्त करके यह कितना आनन्दित रहता है। इसके भाग्य की सराहना  कौन करे ? यह तो उन दोनों का—ग्वालबालों और गौओं का बड़ा ही सत्कार करता है। स्नान-पान के लिये झरनों का जल देता है, गौओं के लिये सुन्दर हरी-हरी घास प्रस्तुत करता है, विश्राम करने के लिये कन्दराएँ और खाने के लिये कन्द-मूल फल देता है। वास्तव में यह धन्य है!।।18।।

 

 गा गोपकैरनुवनं नयतोरुदार-

    वेणुस्वनैः कलपदैस्तनुभृत्सु सख्यः।

 अस्पन्दनं गतिमतां पुलकस्तरूणां

    निर्योगपाशकृतलक्षणयोर्विचित्रम्॥१९॥

 

अरी सखी! इन सांवरे-गोरे किशोरों की तो गति ही निराली हैं। जब वे सर पर नोवना(दुहते समय गाय के पैर पर बाँधने की रस्सी) लपेटकर और कंधो पर फंदा रखकर गायों को एक वन से दूसरे वन में हांककर ले जाते हैं, साथ में ग्वालबाल भी होते हैं और मधुर मधुर संगीत गाते हुए बांसुरी की तान छेड़ते हैं, उस समय मनुष्यों की तो बात ही क्या, अन्य शरीरधारियों में भी चलने वाले चेतन पशु-पक्षी और जड़ नदी आदि तो स्थिर हो जाते हैं तथा अचल-वृक्षों को भी रोमांच आ जाता हैं। जादूभरी वंशी का और क्या चमत्कार सुनाऊँ?।।19।।

एवं विधा भगवतो या वृन्दावनचारिणः।

वर्णयन्त्यो मिथो गोप्यः क्रीडास्तन्मयतां ययुः ॥२०॥

 

परीक्षित्! वृन्दावनविहारी श्रीकृष्ण की ऐसी-ऐसी एक नहीं, अनेक लीलाएँ हैं। गोपियाँ प्रति-दिन आपस में उनका वर्णन करतीं और तन्मय हो जातीं। भगवान लीलाएँ उनके ह्रदय में स्फुरित होने लगतीं ।

 

।। इति श्रीमद्भागवते महापुराणे पारमहंस्यां संहितायां दशमस्कन्धे पूर्वार्धे वेणुगीतं नामैकविंशोऽध्यायः।।२१।।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Be a part of this Spiritual family by visiting more spiritual articles on:

The Spiritual Talks

 

For more divine and soulful mantras, bhajan and hymns:

Subscribe on Youtube: The Spiritual Talks

 

For Spiritual quotes , Divine images and wallpapers  & Pinterest Stories:

Follow on Pinterest: The Spiritual Talks

 

For any query contact on:

E-mail id: thespiritualtalks01@gmail.com

 

spiritual talks

Welcome to the spiritual platform to find your true self, to recognize your soul purpose, to discover your life path, to acquire your inner wisdom, to obtain your mental tranquility.

Leave a Reply